दा ज़ाफ़री


शायरी

न ग़ुबार में न गुलाब में
शायद अभी है राख में