अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.19.2017


मेरा संसार तुम्हीं से है

मेरा संसार तुम्हीं से है
मुझको बस प्यार तुम्हीं से है
है और बात उन्मुक्त गात होकर
तुमसे कह सका नहीं
पर बिना कहे रह सका नहीं

ये अहंकार की प्रतिमा सा
जो कुलिश गात पर्वत कठोर
इसमें रहनी है शेष कहाँ
जीवन स्पंदन की हिलोर
पर इसके अन्तर में जल है
जो करता कल-कल छल-छल है
है और बात झरना बनकर
ये जल अबतक बह सका नहीं
मेरा संसार तुम्हीं से है
मुझको बस प्यार तुम्हीं से है
है और बात उन्मुक्त गात होकर
तुमसे कह सका नहीं
पर बिना कहे रह सका नहीं (1)

काँटों की हरी शाल ओढ़े
ये चटख शोख रंग का गुलाब
श्री सामंतों सी ठसक लिए
आँखों में सत्ता का रुआब
पर इसके भीतर भी पराग
जो सतत गा रहा सुरभि राग
है और बात आगे बढ़कर
पर तितली के गह सका नहीं
मेरा संसार तुम्हीं से है
मुझको बस प्यार तुम्हीं से है
है और बात उन्मुक्त गात होकर
तुमसे कह सका नहीं
पर बिना कहे रह सका नहीं (2)

ये पांचजन्य घन-गर्जन स्वर
करता अरिमन में भी भरता
डगमग–डगमग धरती डोले
जब समरांगण में पग धरता
पर उर में गूँज रही वेणू
राधा-जसुदा-गोकुल-धेनू
है और बात वह द्वारिकेश
वृन्दावन में रह सका नहीं
मेरा संसार तुम्हीं से है
मुझको बस प्यार तुम्हीं से है
है और बात उन्मुक्त गात होकर
तुमसे कह सका नहीं
पर बिना कहे रह सका नहीं (3)


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें