अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.22.2017


साथ जबसे तुम्हारा मिला

साथ जबसे तुम्हारा मिला
सारी दुनिया बदल सी गई।
प्रेम का पुष्प जब से खिला
सारी दुनिया बदल सी गई।

बदला बदला सा मौसम यहाँ
बदली बदली फ़िज़ायें यहाँ।
पेड़ पौधे सभी झूम कर
प्रेम के गीत गायें यहाँ।
मन में जबसे ये तूफ़ां उठा
सारी दुनिया बदल सी गई,


प्रेम का पुष्प जबसे खिला
सारी दुनिया बदल सी गई।

गुल खिले मन में गुलशन खिले
आप जबसे हमें हो मिले।
आप से महका आँगन मेरा
भूल बैठे सभी हम गिले।
सर पे छाया अजब सा नशा
सारी दुनिया बदल सी गई,


प्रेम का पुष्प जबसे खिला
सारी दुनिया बदल सी गई।

चाँद तारों में देखूँ तुझे
सब नज़ारों में देखूँ तुझे।
आइना सामने राखकर
अपनी आँखों में देखूँ तुझे।
जबसे दिल ये दीवाना हुआ
सारी दुनिया बदल सी गई,


प्रेम का पुष्प जबसे खिला
सारी दुनिया बदल सी गई।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें