अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.14.2007
 
नई सदी के लोग
अभिनव शुक्ला

संवेदनहीनता,
कुत्सित मानसिकता,
दीनता,
जीवन के,
परम शोभनीय,
आभूषण बन,
मानव को,
जीवित होने का,
आभास दिलाते हैं,
इस सदी में,
ऐसे ही लोग,
पाए जाते हैं।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें