अभिलाष गुप्ता

कविता
जान के नाम
मौन
सच कहा है मैंने