अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.20.2016


डी.एन.ए. टेस्ट

 "दीपेश...क्या तुम सच ही मुझे छोड़ कर चले जाओगे, बोलो न, यह सब झूठ है...! है न...? कैसे जा सकते हो तुम...? मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बनने वाली हूँ...!"

"चल दूर हट...। अपनी इस नाजायज़ बच्चे को मेरा नाम न दे, न जाने किसका पाप है। ज़बरदस्ती मेरे गले मत बाँध...!"

"कैसी बात कर रहे हो आज तुम? ज़रा भगवान से तो डरो, मेरी ज़िन्दगी में तुम्हारे अलावा कोई नहीं। यदि तुम्हे शक़ ही है तो हम आज ही डी.एन.ए. टेस्ट कराते हैं। पर मेरी भी एक शर्त है...!"
"क्या, बोल तेरी क्या शर्त है....?"

"यही कि...जब डी.एन.ए. टेस्ट यह बता देगा की ये बच्चा हम दोनों का है..., तब भी मैं तुम्हारे साथ न रहूँगी... और न ही बच्चे पर तुम्हारा कोई अधिकार होगा।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें