अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
06.26.2007
 

सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं
अब्दुल हमीद अदम



सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं
हमें शराब पिलाओ बहार के दिन हैं

सबू=प्याला

ये काम आईन-ए-इबादत है मौसम-ए-गुल में
खारों को गले से लगाओ बहार के दिन हैं

आईन-ए-इबादत=पूजा का नियम

ठहर ठहर के न बरसो उमड़ पड़ो यक दम
सितमगरी से घटाओ बहार के दिन हैं

शिकस्ता-ए-तौबा का कब ऐसा आएगा मौसम
‘अदम’ को घेर के लाओ बहार के दिन हैं

शिकस्ता-ए-तौबा= तोबा की पराजय
अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें