अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.27.2016


डर

मुझे सजा सँवार कर
गम्भीरता की चादर डाल कर
फिर से
बैठा दिया गया
भावी वर के घर वालों के समक्ष
मन में हज़ारों डर और आशंकायें लिए।
उनकी परखती
अन्दर तक बेधती नज़रें
मुझ में ढूँढने लगी
एक सुन्दर, सुसंस्कृत, शिक्षित आदर्श बहू
घर और परिवार को सम्भालने के गुण
दहेज की लिस्ट की लम्बाई
और वज़न।
इन सबसे बढ़ कर
मेरे प्रमाणपत्रों में कमाऊ होने के सर्टिफिकेट
और मै स्वयं में सिकुड़ती सिमटती
तूफ़ान के बाद की तबाही से डरती
न चाहते हुए भी ईश्वर से मनाने लगी
कि जाने वाले, पिछलों की तरह
निराशा और उदासी का साम्राज्य
न छोड़ जायें।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें