आहद खान

दीवान
किस क़दर है तुमने ठुकराया मुझे
शिद्दत सह नहीं सकते