अ कीर्तिवर्धन

दीवान
बसंत
मौन रहकर भी
सखी तू क्यों भई उदास