अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.19.2017

अनूदित साहित्य

, , , , , , , , , क्ष, ख्, , , , , , ज्ञ, , , , , , , त्र, , , , , , , , , म, , , , , श-ष, श्र-शृ, , ,

     
   
अज आखाँ वारस शाह नूँ -
अनाम-तस्वीर
अनुकरण
अपने मठ की ओर
आम आदमी
    - ऊपर
   
आँखों देखा ईरान
आज
   
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
उदास वक्त में मैंने    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
एक राजनैतिक कहानी    
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
कश्मीरी पंडितों के नाम
कहाँ जाऊँ मैं
कुरुक्षेत्र क्या पता है
    - ऊपर
क्ष    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
गिटारवादक (रूसी लोककथा)    
- ऊपर
   
घोड़ा और बुज़ु़र्ग    
    - ऊपर
   
     
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
जमुना
जीवन और मेरी संदूकची
जेल की डायरी
   
    - ऊपर
ज्ञ    
     
    - ऊपर
   
     
- ऊपर

   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
तारा चिब्ब कढ    
- ऊपर
त्र    
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
दुःख अपरिमित देवदासी  
    - ऊपर
   
धरती बिछौना है    
    - ऊपर
   
नदी का तीसरा किनारा नसल नाथों का उत्सव
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
बच्चियों का बड़प्पन
बलात्कृता
बाँग और आरती
बारिश की रिमझिम सी मेरी आवाज़ सुन
बिखरी विरासत
- ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
मदहोश - 1
मदहोश - 2
मदहोश - 3
मदहोश - 4 (अंतिम)
माँ बताती है
मुस्कान धर्म का प्रसार
मेंढक का मुँह
मेरा बुजु़र्
मेरी कविता
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
रक्तानुबंध
रोटी
रोशनी
   
    - ऊपर
   
     
    - ऊपर
   
वह पौधा
विशाल पंखों वाला बहुत बूढ़ा आदमी
वृक्षवैभव
वे मनुष्य ही थे...
वेकिंग फ़्रॉम ड्रंकननेस ऑन ए स्प्रिंग डे
    - ऊपर
श-ष    
     
    - ऊपर
श्र-शृ    
     
    - ऊपर
   
संध्या.. काली.. रात..
सदानीरा ही रही मैं
सनसेट सरप्राइज़
सिकुड़ता बिन्
साथ
साथ छूटा, स्वप्न रूठे
सुराख़दार थाली
 
    - ऊपर
   
हिलोर    
- ऊपर
   

 

    - ऊपर