अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 110,  जून द्वितीय अंक, 2016
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  |  कहानी  |  लघु-कथा  | सांस्कृतिक-कथा आपबीती  |  आलेख  |  हास्य-व्यंग्य  |   हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ
महाकाव्य  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  लेखक  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  साहित्यिक-चर्चा  |  शोध निबन्ध 
शायरी  |  शायर  |    बाल साहित्य  |  हिन्दी ब्लॉग  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  |  साक्षात्कार  |  संपादकीय
इस अंक में  |  पुराने अंक  

सम्पादकीय:  हित्य प्रकाशन/प्रसारण के विभिन्न माध्यम – पुस्तकबाज़ार.कॉम और विचारों का वृन्दावन

इस समय भी विदेशों में बैठे साहित्य प्रेमी तकनीकी के नई सीमाओं को खोजते हुए साहित्य को विभिन्न माध्यमों से सार्वभौमिक बनाने का प्रयास कर रहे हैं। पिछले दिनों ओकविल (कैनेडा) से डॉ. शैलजा सक्सेना ने "विचारों का वृन्दावन" आरम्भ किया है। ..........
अपने एक प्रयास की पहले भी एक बार चर्चा कर चुका हूँ। एक सॉफ़्टवेयर कंपनी के साथ साझेदारी में हिन्दी की ई-पुस्तकों को बेचने के लिए पुस्तकबाज़ार.कॉम की नींव रखने में आजकल व्यस्त हूँ।पूरा पढ़िए

आपके पत्र - शुद्ध लेखन युक्तियाँ - विचारों का वृंदावन -
 इस स्तंभ में साहित्य कुंज व हिन्दी साहित्य के बारे में आपके पत्र प्रकाशित किए जायेंगे।
रचनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया के लिए रचना के नीचे "अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें" बटन पर क्लिक करें और अपनी प्रतिक्रिया तुरंत सीधे लेखक/लेखिका को भेजें। धन्यवाद -
इस अंक के पत्र -
१.  विराम चिह्न
२. हिन्दी व्याकरण -
    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
    भारतकोश
    हिन्दी साहित्य\
३. कविता का व्याकरण एवं छंद - भारतकोश


डॉ. शैलजा सक्सेना द्वारा साहित्यिक प्रसारण का सराहनीय प्रयास:
विचारों का वृन्दावन वन!
इस अंक की कहानियाँ -
एक कहानी अलग-सी /
उर्फ़ गनेशी की कथा

सुशांत सुप्रिय
“संस्वीकृति” (Confession)
शिवानी कोहली
नीम का पेड़
मिर्ज़ा हफ़ीज़
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - सांस्कृतिक-कथा -
व्यंग्य मार्केटिंग में बीवियाँ - डॉ. अशोक गौतम
बरसात में - प्रमोद यादव
शिकार करने का जन्मसिद्ध अधिकार - आरिफा एविस
दुहाई है दुहाई - अशोक परुथी "मतवाला"
60 साल का नौजवान -समीक्षा तैलंग
बन्दर विमर्श - अवधेश कुमार झा
बाल साहित्य - लघु कथा - साक्षात्कार-
सभी पेश आते इज़्ज़त से, रस भरे आम - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
सूरज और बादल - शकुन्तला बहादुर
गीता का ज्ञान, माँ, खट्टे अंगूर - संजय पुरोहित
चाहत - ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’
भोग, ठहाका, तिलचट्टे - महावीर उत्तरांचली
खिंचाव - विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र'
डी.एन.ए. टेस्ट, माँ की व्यथा - आभा नौलखा
हिंदी सिनेमा के गीतों के साहित्यिक महत्व पर केन्द्रित दो साक्षात्कार
मैनेजर पांडेय और अजित कुमार से प्रियंका की बातचीत
सिनेमा में सेंसर की ज़रूरत हमने ही पैदा की है : मिहिर भुट्टा
केंद्रीय फ़िल्म प्रमाणन बोर्ड के वर्तमान सदस्य मिहिर भुट्टा की सिनेमा शोधार्थी मनीष कुमार जैसल की बातचीत
आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-
मेपल तले, कविता पले - 6
 डॉ. शैलजा सक्सेना
भारतीय सिनेमा और रवीन्द्रनाथ टैगोर
प्रो. एम. वेंकटेश्वर
दलित अस्मिता पर अम्बेडकरवादी चिंतन का प्रभाव: विश्लेषणात्मक अध्ययन - कीर्ति भारद्वाज’
गोदान: अन्नदाता की अनन्न स्थिति - धीरेन्द्र सिंह
आलेख - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य
एक शिक्षक की सेवा निवृति - डॉ. कौशल किशोर श्रीवास्तव
भोजपुरी लोकगीतों में पर्यावरण - डॉ. छोटे लाल गुप्ता
परम्पराएँ प्रसारण की (5): रोहतक केंद्र - बी.एन. गोयल
किसी की आँख खुल गयी
किसी को नींद आ गयी - शकुन्तला बहादुर

संत-साहित्य के सामाजिक आदर्श एवं आज का युग - छोटे लाल गुप्ता
प्रमुख उपनिषदों में मानवीय मूल्यों की चर्चा - रामकेश्वर तिवारी
भक्तिविशारदा शबरी - काजल ओझा

वृक्षवैभव
कवि : स्वर्गीय ज्योतिष महेता
अनुवादक : डॉ. रजनीकान्त शाह
(मूल गुजराती से हिन्दी अनुवाद)
कविताएँ - शायरी -
सब सुहावना था - महेश रौतेला
छूट गए सब - सुशील शर्मा
माँ की बरसी, तिज्जो मौसी, आश्रम में स्त्रियाँ - निशा भोसले
बिखराव, अजनबी सी रात आयी - सरिता यादव
अनिता मंडा के दोहे - अनिता मंडा
समझौता, किंचित सी मुस्कान तुम्हारी, मायने - प्रो. डॉ. किशोर गिरडकर
जलाओ एक दीपक और… - आशीष कुमार
ज्योति छत पर उतर आई - राम लखारा "विपुल"
मेरे हालात न जाने कब, ज़िन्दगी उम्मीद पर - गुलाब जैन
शहर है भीड़ है बस, हमारी लाश का यूँ जश्न - डॉ. उमेश चन्द्र शुक्ल
हर मरहले का सामने नक़्शा अगर होता, दिल से न लगाने का, चमन की सैर पर सरकार निकले हैं - ठाकुर दास "सिद्ध"
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

आधुनिक भारत में जाति
अनुराग कुमार पाण्डेय

वृद्धावस्था
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा

मेरे मन में लिखा पढ़ो तुम भी...
सुमन कुमार घई
यात्रा संस्मरण - संस्मरण / आप-बीती संकलन -

कनाडा डायरी के पन्ने
10_पूरी-अधूरी रेखाएँ
सुधा भार्गव

गंगा
अनुपमा तिवाड़ी
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
साहित्यिक समाचार -

हिन्दी राइटर्स गिल्ड की जेठ मास की गोष्ठी और ख़ुमारी का लोकार्पण
सविता अग्रवाल "सवि"
 
"गुफ्तगू" के संरक्षक डॉ. पीयूष दीक्षित सम्मानित
इम्तियाज़ अहमद ग़ाजी
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
मोहित /एक/
 
शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय
7 8 9 10
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
विचारों का वृन्दावन वन!
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्य सेतु
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada