अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 93,  अक्तूबर द्वितीय अंक, 2014
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता   कहानी   लघु-कथा   लोक-कथा   आपबीती   आलेख    हास्य-व्यंग्य    हास्य-व्यंग्य कविताएँ    महाकाव्य   अनूदित-साहित्य   लेखक   संकलन    ई-पुस्तकालय   साहित्यिक-चर्चा   शोध निबन्ध    साहित्यिक-समाचार    शायरी   शायर   बाल साहित्य   हिन्दी ब्लॉग
पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा    साक्षात्कार
इस अंक में     पुराने अंक

सर्वेक्षण : आधुनिक युग में पुस्तक प्रकाशन के विविध विकल्प उपलब्ध हैं। इन विकल्पों में सबसे अधिक लोकप्रिय और सहज ई-बुक्स है। यह पुस्तकें आप ई-रीडर, स्मार्ट फोन, टैब्लेट्स, पीसी और लैपटॉप पर पढ़ सकते हैं। यह पुस्तकें आपके व्यक्तिगत पुस्तकालय का भाग बन जाती हैं। ई-बुक्स की कीमत आम पुस्तकों से बहुत कम होती है और और प्रकाशन भी बहुत सस्ता होता है। यह आपकी शेल्फ़ पर जगह भी नहीं घेरतीं। इस विकल्प के बारे में साहित्य कुंज ने एक सर्वेक्षण करने का प्रयास शुरू किया है। आप सुधी पाठकों से निवेदन है कि इसमें अवश्य हिस्सा लें। इंटरनेट पर साहित्य के नए विकल्प के लिये यह महत्वपूर्ण है।
                                                   - सुमन कुमार घई
                                                     सर्वेक्षण आरम्भ करें :

इस अंक में —

कहानियाँ
कविताएँ
शायरी
हास्य-व्यंग्य
ललित निबन्ध
बाल साहित्य

लघु कथा
निबन्ध/ आलेख
पुस्तक चर्चा / साहित्य चर्चा/
पुस्तक समीक्षा

ई-पुस्तकालय
यात्रा संस्मरण

संकलन
सूचना
अनूदित साहित्य
साहित्यिक समाचार
महाकाव्य
साहित्य संगम

इस अंक में कहानियाँ -
खुशियों के असंख्य दीप झिलमिला उठे
गोवर्धन यादव
गुड़िया
डॉ० मधु सन्धु
एक विलक्षण चित्रकार
भूपेंद्र कुमार दवे
हास्य - व्यंग्य - बाल साहित्य - लघु कथा -
चलो लोहा मनवायें - सुशील यादव
रंग बदलती टोपियाँ - हरि जोशी
काश, मैं भी एक आम आदमी होता - अशोक परुथी "मतवाला"
ईर्ष्या, आजकल के शरवन! _ अशोक परुथी "मतवाला"
सबकी जीत (कहानी) - रमेश ‘आचार्य’
अब मत चला कुल्हाड़ी, दीपक बनकर‌ - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
प्यार और सत्कार, इज़्ज़त, बिकने वाले - अनन्त आलोक
बेघर बच्चों का घर, ज़ेब्रा क्रॉसिंग - अनुपमा तिवाड़ी
वृद्धाश्रम, न्याय, ज्वालामुखी - गोवर्धन यादव
आलेख -  साक्षात्कार -  शोध निबन्ध -  
मध्यकालीन हरियाणा का शिखर वैज्ञानिक: ठक्कर फेरू
अमनदीप वशिष्ठ

कैलाश सत्यार्थी को नोबल पुरस्कार
शैलेन्द्र चौहान

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास एवं जनमानस तक बौद्धिक सम्पदा का सम्प्रेषण: डॉ. अनिल अग्रवाल जी के विचार
प्रवीण शर्मा
भूमंडलीकरण, प्रौद्योगिकी और भाषा
रेखा सेठी
समकालीन कविताः कालबोध की अपेक्षा युग चेतना की कविता
कीर्त्ति जैन
गुरु नानक के काव्य में प्रकृति-चित्रण
मनमीत कौर
भवभूति कालीन समाज में यज्ञ-विधान
रामकेश्वर तिवारी
साहित्यिक निबन्ध - साहित्य और सिनेमा - अनूदित साहित्य
'तलछट' से निकले हुए एक महान कथाकार
शैलेन्द्र चौहान
भारतीय सिनेमा में 'समांतर' और 'नई लहर (न्यू वेव)' सिनेमा का स्वरूप
डॉ. एम वेंकटेश्वर
वेकिंग फ़्रॉम ड्रंकननेस ऑन ए स्प्रिंग डे
लि बाई (701-762) चीनी कवि
अनुवाद्क - प्रवीण शर्मा
कविताएँ - शायरी -
अपने शहर को - भानु प्रिया
आवास, क्या है ?, वसीयत, प्रिये चारुशीले - डॉ.ऋषभदेव शर्मा
आओ दीप जलायें - विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र'
हाइकु - मुक्तक, त्रिवेणी - विभा रानी श्रीवास्तव
दीप गीत - शकुन्तला यादव
दीवाली हाइकु - कृष्णा वर्मा
जल जल दीप जलाए सारी रात, दीपक माटी का - गोवर्धन यादव
काश तुम मिलती तो बताता, उसने कहा - डॉ. मनीषकुमार सी. मिश्रा
एक कविता-१, एक कविता-२, एक कविता-३, एक कविता-४, एक कविता-५ - रवि कांत
संदेही सरि की मँझधार में हो जाती, आज तुम-हम मिले थे - नीरज सारंग
आओ दीप जलायें - विश्वम्भर पाण्डेय 'व्यग्र'
उड़ान - सुरिन्द्र कौर
वे दरख़्त, उदास नज़्म, तन्हाई, महसूस - सीमा ’असीम’ सक्सेना
एक शब्द चित्र माँ के लिए, क्या जानों सरकार हमारे बारे में - सतीश सक्सेना
सपनों के महल - हेमलता पाण्डे
बचे हुए कुछ लोग ...., वही अपनापन ..., उन दिनों ये शहर... - सुशील यादव
रो-धो के सब कुछ... - प्रखर मालवीय "कान्हा"
कश्ती बिना पतवार के... - शालिनी श्रीवास्तव "शानू"
पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक समीक्षा - 

ये गीत परिवेशगत आस्था एवं दायित्वबोधी संवेदना से संपृक्त हैं
आचार्य भगवत दुबे

चिर इच्छा को समर्पित कविताएँ
डॉ. सारिका कालरा

नक्सलबाड़ी की चिंगारी
प्रदीप श्रीवास्तव
यात्रा संस्मरण - संस्मरण-  संकलन -
Kailash
कैलाश-मानसरोवर यात्रा - प्रेमलता पांडे
सोलह्वां दिन - 19/6/2010
सत्रहवां दिन - 20/6/2010
कन्या-भ्रूण हत्या से संबंधित संस्मरण शृंखला 
हादसा - ६ सफाई
कविता गुप्ता
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

अंतपुर की व्यथा कथा
अनिल कुमार पुरोहित
इस अंक में दृश्य  03 और
04

नया सवेरा
स्मिता / अमरेन्द्र
इस अंक में अंतिम 61 - 71

शकुन्तला
इस अंक में चतुर्थ सर्ग - प्रमोद ६ महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश
(अगले अंक से)
साहित्यिक समाचार -

‘साहित्य मंथन सृजन पुरस्कार’
डॉ. गुर्रमकोंडा नीरजा

मनोज शुक्ल ‘मनोज’ की काव्य कृति संवेदनाओं के स्वर का विमोचन
मनोज कुमार शुक्ल ‘मनोज’

त्रिलोक सिंह ठकुरेला को राष्ट्रभाषा गौरव सम्मान
श्रीमती साधना ठकुरेला
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

हिन्दी राइटर्स गिल्ड
 अनुभूति-अभिव्यक्ति  
 काव्यालय
 वागर्थ (भारतीय भाषा परिषद.Com)
 हंस
 साहित्य सरिता
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
लघुकथा
साहित्य सेतु
हिन्दी ब्लॉग
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
87, Scarboro Ave.
Scarborough, Ont M1C 1M5
Canada