अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 97,  जनवरी प्रथम अंक, 2015
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता   कहानी   लघु-कथा   लोक-कथा   आपबीती   आलेख    हास्य-व्यंग्य    हास्य-व्यंग्य कविताएँ    महाकाव्य   अनूदित-साहित्य
लेखक   संकलन    ई-पुस्तकालय   साहित्यिक-चर्चा   शोध निबन्ध    साहित्यिक-समाचार    शायरी   शायर   बाल साहित्य
हिन्दी ब्लॉग    पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा    साक्षात्कार
इस अंक में     पुराने अंक

सर्वेक्षण : आधुनिक युग में पुस्तक प्रकाशन के विविध विकल्प उपलब्ध हैं। इन विकल्पों में सबसे अधिक लोकप्रिय और सहज ई-बुक्स है। यह पुस्तकें आप ई-रीडर, स्मार्ट फोन, टैब्लेट्स, पीसी और लैपटॉप पर पढ़ सकते हैं। यह पुस्तकें आपके व्यक्तिगत पुस्तकालय का भाग बन जाती हैं। ई-बुक्स की कीमत आम पुस्तकों से बहुत कम होती है और और प्रकाशन भी बहुत सस्ता होता है। यह आपकी शेल्फ़ पर जगह भी नहीं घेरतीं। इस विकल्प के बारे में साहित्य कुंज ने एक सर्वेक्षण करने का प्रयास शुरू किया है। आप सुधी पाठकों से निवेदन है कि इसमें अवश्य हिस्सा लें। इंटरनेट पर साहित्य के नए विकल्प के लिये यह महत्वपूर्ण है।
                                                   - सुमन कुमार घई
                                                     सर्वेक्षण आरम्भ करें :

इस अंक में कहानियाँ -
गाँठें
विनीता शुक्ला
पिंजरे के बंद पंछी
अशोक परुथी "मतवाला"
नानी तुमने कभी प्यार किया था? - १
महेश रौतेला
हास्य - व्यंग्य - बाल साहित्य - लघु कथा -
संकट - अमरेन्द्र कुमार
नया साल, अपना स्टाइल - सुशील यादव
भक्त की फ़रियाद - अशोक परुथी "मतवाला"
मैं नन्हा-मुन्हा बालक, जाड़े की है सुबह, आओ अब स्कूल चलें - राघवेन्द्र पाण्डेय ‘राघव’
ईमानदारी का फल (कहानी) - नीरजा द्विवेदी
अपने - पराये, भाई चारा, उलटे रिश्ते - सुभाष चन्द्र लखेड़ा
खोल - रमेश ‘आचार्य’
घिनौना बदलाव - मधु शर्मा
आलेख -  शोध निबन्ध -  शोध निबन्ध -  
विश्व के कतिपय नव वर्ष तथा हिन्दू नव वर्ष - राम केश्वर तिवारी बिहार के लोकगीतों में नारी संवेदना का स्वर
छोटे लाल गुप्ता
भारतीय संस्कृति के मूल तत्व
राम केश्वर तिवारी
साहित्यिक निबन्ध - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य
हिन्दी-हाइकु में शीत ॠतु वर्णन
डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा
डॉ. रामविलास शर्मा : हिन्दी प्रदेश की संस्कृति का रवीन्द्र साहित्य पर प्रभाव
बिजय कुमार रबिदास
तारा चिब्ब कढ
गुरमीत कडीयावली
अनुवाद – सुरजीत सिंह वरवाल
बच्चियों का बड़प्पन
(लिटल गर्ल्ज़ वाईज़र दैन मैन्न):
लियो टॉलस्टाय
अनुवादक :सुभाषिणी खेतरपाल
कविताएँ - शायरी -
नव-वर्ष : जागरण वर्ष. २०१५ - मंजु महिमा भटनागर
इस नव वर्ष में - डॉ. मीनू नन्दा
शुभ-सौन्दर्य, एक आस, पिता (छंद - चोका) - ज्योत्स्ना 'प्रदीप'
नव वर्ष से आशाएँ - सविता अग्रवाल ’सवि’
चिता जलाना बन्द भी हो - अवधेश कुमार मिश्र "रजत"
कोलाहल, तरक्की, ओ मेरे... - कामिनी कामायनी

बहुत बड़ा गाँव है मेरा - डॉ. सारिका कालरा
नव वर्ष कुण्डलियाँ, जनवरी - ताँका - डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा
हज़ारों वर्षों की कमाई, मेरा अर्थ मेरी ‘अर्थी’ तक, मानव बनूँ - राघवेन्द्र पाण्डेय
मेरे गाँव के घर का द्वार, अथ से अभी तक - डॉ. अमिता शर्मा
जहाँ अपने गीतों के माध्यम से, मेरा हर गीत सुमन सज जाने दे, मैं क्या गीत गाऊँ?, जग त्याग उड़ जाना मुझको न भाता, जहाँ कहीं भी मेरे पग पड़ते थे - नीरज सारंग
रेखाएँ -  पंद्रह क्षणिकाएँ - डॉ. रमा द्विवेदी
देर तक - चेतन आनन्द
नाम अपना किसान है साहब - शिवशंकर यादव
झील समंदर दरिया हैं - देव नाथ द्विवेदी
सात जन्मों के रिश्ते निभाते रहे - डॉ. अनिल चड्डा
मौन रहकर भी - अ कीर्तिवर्धन
तीरगी से रोशनी का हो गया - प्रखर मालवीय "कान्हा"
गालियाँ माँ की दी नहीं होती - प्राण शर्मा
पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक समीक्षा -  पुस्तक समीक्षा - 

चूड़ी बाज़ार में लड़की
डॉ. एम वेंकटेश्वर

अर्थचक्र: सच का आईना
प्रदीप श्रीवास्तव

प्रेमचंद की कथा परंपरा में पगी कहानियाँ
प्रदीप श्रीवास्तव
यात्रा संस्मरण - संस्मरण-  संकलन -
Kailash
कैलाश-मानसरोवर यात्रा - प्रेमलता पांडे
छब्बीसवाँ दिन - 29/6/2010
सत्ताइसवाँ दिन - 30/6/2010
कन्या-भ्रूण हत्या से संबंधित संस्मरण शृंखला 
हादसा - १० अंतिम निर्णय
कविता गुप्ता
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
सतिया का जन्म - 1
 
शकुन्तला
इस अंक में चतुर्थ सर्ग - प्रमोद ६ महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश
(अगले अंक से)
साहित्यिक समाचार -

खुला मंच में साहित्य, शायरी, एवं संगीत की शानदार प्रस्तुति
देवमणि पांडेय

सुनील गज्जाणी को ''काव्य-कुमुद'' राष्ट्रीय प्रतिभा सम्मान प्रदान
 

सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

हिन्दी राइटर्स गिल्ड
 अनुभूति-अभिव्यक्ति  
 काव्यालय
 वागर्थ (भारतीय भाषा परिषद.Com)
 हंस
 साहित्य सरिता
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
लघुकथा
साहित्य सेतु
हिन्दी ब्लॉग
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
87, Scarboro Ave.
Scarborough, Ont M1C 1M5
Canada