अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 107,  मार्च द्वितीय अंक, 2016
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  |  कहानी  |  लघु-कथा  |  लोक-कथा  |  आपबीती  |  आलेख  |  हास्य-व्यंग्य  |   हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ
महाकाव्य  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  लेखक  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  साहित्यिक-चर्चा  |  शोध निबन्ध 
शायरी  |  शायर  |    बाल साहित्य  |  हिन्दी ब्लॉग  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  |  साक्षात्कार  |  संपादकीय
इस अंक में  |  पुराने अंक  

सम्पादकीय:  लेखन सुधार साधन -

पिछले कुछ अंकों में मैं निरंतर एक ही शिकायत करता आ रहा हूँ - लेखकों द्वारा भेजी जाने वाली रचनाओं की त्रुटियों के बारे में। आप सबको....  पूरा पढ़िए

इस अंक में कहानियाँ -
पार्टनर
अमिताभ विक्रम द्विवेदी
खुला आसमान
अर्चना सिंह "जया"
क्रिकेट
शहादत खान
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - (कविता) लेखन सुधार साथन -
और बड़कू मामा बन गए बुद्धिजीवी​ - तारकेश कुमार ओझा
बैकुंठ में जन्म लेती कुंठाएँ - :डॉ. अशोक गौतम
राम नाम सत्य है। - अशोक परुथी "मतवाला"
घुड़चढी के दिन आये - प्रमोद यादव
नन्द लाल छेड़ गयो रे - सुशील यादव
होली?, अहसास! - अशोक परुथी "मतवाला"
होली हटक्कली - डॉ. कौशल किशोर श्रीवास्तव
१.  विराम चिह्न
२. हिन्दी व्याकरण -
    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
    भारतकोश
    हिन्दी साहित्य


बाल साहित्य - लघु कथा - लोक कथा -
चन्दा मामा, अनोखा गाना - शकुन्तला बहादुर
बादल भैया ता-ता थैया, डेडू - प्र्भुदयाल श्रीवास्तव
श्रद्धा और विश्वास - अवधेश कुमार झा
अम्मा - नेहा गोस्वामी
और भरोसा टूट गया - जयश्री जाजू
शहर का डॉक्टर, अहसास, मनचले - मनोज चौहान
भूख की आग - इंदर भोले नाथ
आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-

मेपल तले, कविता पले - 5
 डॉ. शैलजा सक्सेना

अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच और सिनेमा के चहेते कलाकार सईद जाफ़री की स्मृति में
डॉ. एम वेंकटेश्वर
तन के भूगोल से परे स्त्री मन की गाँठें खोलती अमृता प्रीतम की कहानियाँ - अभिषेक कुमार गौड़
श्रीलाल शुक्ल के उपन्यासों में राजनैतिक चेतना का उत्कर्ष - छोटे बाबू गुप्ता
हिन्दी साहित्य में समकालीन परिवेश की चुनौतियाँ - सरिता विश्नोई
आलेख - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य
पुरुषवादी मानसिकता का बर्बर रूप - आरिफा एविस
चुटकुले का समाजशास्त्र - डॉ. कुलीन कुमार जोशी
परम्पराएँ प्रसारण की (3) – पी.सी. चटर्जी - बी.एन. गोयल
नवगीत और देश - आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'
सोशल साईट्स और लोकव्यवहार - शोभा जैन
समकालीन महिला उपन्यासकारों के उपन्यासों में शारीरिक शोषण की समस्या - डॉ. राजकुमारी शर्मा
जन-चेतना की प्रेरणा से स्फुरित लोकधर्मिता का काव्य - डॉ. संदीप रणभिरकर


मदहोश - 4 (अंतिम)
लेखक: बलराज सिद्धू
 अनुवाद: सुभाष नीरव
कविताएँ - शायरी -
 कभी कभी यह मन यूँ चाहे - राकेश खण्डेलवाल
जीवन-नदिया, सब के हो जाओगे, ज़िंदगी ने जो दिया - डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ’अरुण’
दुःख तो ज़रिया है, कठोर हाथों की कविता, विद्रोही, स्वागत है - आनंद कुमार
मौन, मन को छू जाये, प्रेम में होना - सीमा ‘असीम’ सक्सेना
अंतिम सत्य, नव प्रभात, आखरों की प्रीत, शहीद की माँ - अनमोल तिवारी "कान्हा"
तुम्हारे बिन - देव नाथ द्विवेदी
होली - डॉ. शुभ्रता मिश्रा
होली पर्व पर एक लोकगीत, होली गीत  (स्व. डॉ. रमा सिंह) - शकुन्तला बहादुर
बड़ी जोर को सखी ऊ नचैय्या, होली हाइकु - सपना मांगलिक
प्रिय तुम आना हम खेलेंगे होली, सुनो प्रह्लाद, फागुन अब मुझे नहीं रिझाता है - सुशील शर्मा
होली - जयश्री जाजू
प्रेम का रंग - विशाल शुक्ल
प्यार का दर्द भी काम आएगा, धूप ने जाल यूँ बिछाया है, इनकी ख़ुशबू से, उसका चहरा नज़र में आता है - सीमा गुप्ता "दानी"
फ़न क्या है फ़नकारी क्या, तलवारें दोधारी क्या - महावीर उत्तरांचली
ज़िंदगी चलती रहेगी - डॉ. योगेन्द्र नाथ शर्मा ’अरुण’
पतझड़ में सावन देखा है, जान से ज़्यादा प्यारी यादें, झूठे अभिनय में बेहुनर हूँ मैं - शिवशंकर यादव
रोने की हर बात पे - सुशील यादव
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

व्यवस्था को झकझोरने का प्रयास: गधे ने जब मुँह खोला
डॉ. राजेन्द्र वर्मा

मरुभूमि के कठिन संघर्षों की दास्तान "शौर्य पथ" 
शैलेन्द्र चौहान

नारी अस्मिताओं को तलाश करती "चूड़ी बाज़ार में लड़की"
श्वेता रस्तोगी
यात्रा संस्मरण - संस्मरण/आबीती-  संकलन -
आँखों देखा ईरान
06
मूल लेखक: प्रो. अमृतलाल “इशरत”
अनुवादक: राजेश सरकार

ज़ाइऑन नेशनल पार्क की यात्रा
हरि जोशी
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
मोहित और सतिया/सात/
मोहित और रज़िया /एक/

संघर्ष "एक आवाज़"
प्राक्कथन
02

शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय
7 8 9 10
साहित्यिक समाचार -
     
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
हिन्दी राइटर्स गिल्ड
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्य सेतु
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada