अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 10, अंक 108,  मई प्रथम अंक, 2016
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  |  कहानी  |  लघु-कथा  |  लोक-कथा  |  आपबीती  |  आलेख  |  हास्य-व्यंग्य  |   हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ
महाकाव्य  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  लेखक  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  साहित्यिक-चर्चा  |  शोध निबन्ध 
शायरी  |  शायर  |    बाल साहित्य  |  हिन्दी ब्लॉग  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  |  साक्षात्कार  |  संपादकीय
इस अंक में  |  पुराने अंक  

सम्पादकीय:  मेरी प्राथमिकतायें -

अप्रैल के महीने में साहित्य कुंज का एक भी अंक प्रकाशित नहीं कर पाया। इसके दो मुख्य कारण रहे। पहला गीता का सरल अँग्रेज़ी में अनुवाद और दूसरा आधे-अधूरे नाटक का मंचन। इन दोनों कारणों के लिए कैनेडा में  पूरा पढ़िए

इस अंक में कहानियाँ -
बरसाती
मिर्ज़ा हफ़ीज़
बाबा
पूजा व्रत गुप्ता
एक थी कादम्बरी...
लक्ष्मी यादव
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - (कविता)  शुद्ध लेखन युक्तियाँ -
ऑफ़िस शोक - :डॉ. अशोक गौतम
वर्ल्ड कप क्रिकेट के एक रसिया द्वारा अपनी पत्नी को दिया गया पत्र - अवधेश कुमार झा
भाईजी की मूर्ति - प्रमोद यादव
भ्रष्टाचार व गज की तुलना - सुदर्शन कुमार सोनी
क्षणिकाएँ - विशाल शुक्ल
जूते की अभिलाषा - अवधेश कुमार झा
१.  विराम चिह्न
२. हिन्दी व्याकरण -
    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
    भारतकोश
    हिन्दी साहित्य
बाल साहित्य - लघु कथा - साक्षात्कार-
सोच रहा हूँ, अम्मू भाई - प्रभुदयाल श्रीवास्तव तलाश, नई बात, प्रतिक्रिया - महावीर उत्तरांचली
शिक्षा - रिशी कटियार
सही सोच - प्रभुदयाल श्रीवास्तव
मेरी लघुकथा लेखन प्रक्रिया- चंद्रेश छतलानी - ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’
आलेख शृंखला - साहित्य और सिनेमा -  शोध निबन्ध -  
इसी बहाने से-

मेपल तले, कविता पले - 6
 डॉ. शैलजा सक्सेना

एमिली ब्राँटे का कालजयी उपन्यास "वुदरिंग हाइट्स"
आहत प्रेमी की पीड़ा से उपजे प्रतिशोध की मार्मिक गाथा : वुदरिंग हाइट्स
डॉ. एम वेंकटेश्वर
धर्मनिरपेक्षिता के सवाल और विवेकानन्द - रहीम मियाँ
बहुआयामी चेतना के कलाकार: नागार्जुन - डॉ. वंदना बिंदलेश
चुटकुलों के संदर्भ में संस्कृत नाटकों की विदूषक परम्परा - निरंजन ठाकुर
आलेख - शोध निबन्ध -  अनूदित साहित्य
संचार क्रान्ति और हम - जयश्री जाजू
परम्पराएँ प्रसारण की (4) आपात काल - बी.एन. गोयल
"लज्जा" उपन्यास में सांप्रदायिकता का चित्रण - गोविन्दराज.एम
निशान्त की कविता में ग्रामीण जीवन के विविध आयाम - डॉ. दयाराम
महाभारत के शान्ति पर्व में "राजधर्म" का स्वरूप - रामकेश्वर तिवारी
आँखों देखा ईरान
07
मूल लेखक: प्रो. अमृतलाल “इशरत”
अनुवादक: राजेश सरकार
कविताएँ - शायरी -
हुए दिन बरस-बरस के - डॉ. आराधना श्रीवास्तवा
कुर्सी और आदमी, खचाखच भरी रेलगाड़ी - निर्मल गुप्त
फिर एक बार कहूँ, मुझे प्यार है, मैं समय से कह आया हूँ, चुलबुली चिड़िया - महेश रौतेला
कुछ माहिये - आशा पाण्डेय ओझा
किसे कहूँ मैं युग-परिवर्तन, अंधी दौड़ - राघवेन्द्र पाण्डेय ‘राघव’

अहसास, दिल ढूँढता है - सन्तोष कुमार प्रसाद
"हम" से "मैं" बनने के सफ़र में, जाने क्यों??, आशायें बस इतनी सी - अविचल त्रिपाठी
अस्तित्व, बेबसी, भ्रम - अरविंद मिश्रा
नाटक अभी ज़ारी है, तुम हो, सांध्य बेला - विवेक कुमार झा
दोहे - पुष्पा मेहरा
मैनिफेस्टो, मौन - गौरव भारती
हाइकु, आज की नारी -
कमला घटऔरा
रिश्ता - सविता अग्रवाल "सवि"
जो ख़ुद टूटते हैं, ख़्वाब आते रहे! - डॉ. अनिल चड्डा
नज़र में रौशनी है, सोच का इक दायरा है,
दिल से उसके - महावीर उत्तरांचली
कुछ भी हो, अपने मसीहा को - सूबे सिंह सुजान
कभी ख़ुद को ख़ुद से, गर्व की पतंग, ये ज़ख़्म मेरा - सुशील यादव
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

मिट्टी का साहित्य : लव कुमार लव
आरिफा एविस
 
शारदा शुक्ला की "कलम की कॉकटेल": एक समीक्षा
डॉ. शुभ्रता मिश्रा

"फरिश्ते निकले" - नारी शोषण का वीभत्स आख्यान  
प्रो. एम. वेंकटेश्वर
यात्रा संस्मरण - संस्मरण/आबीती-  संकलन -
कनाडा डायरी के पन्ने
08_शिशुपालन कक्षाएँ
सुधा भार्गव

वो ही जो हमेशा जीत जाते हैं
उषा बंसल
इस अंक में
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
साहित्यिक समाचार -

हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने किया "आधे-अधूरे" का मंचन
सुमन कुमार घई

"रोशनी है मगर अंधेरा है" का भव्य लोकार्पण

"अंग्रेज़ कोठी" को सम्मान
जय प्रकाश मानस
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ के अन्तर्गत पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा)

भीगे पंख
लेखक : महेश द्विवेदी
मोहित और रज़िया /दो/

संघर्ष "एक आवाज़"
प्राक्कथन
03
सुरजीत सिंह वरवाल

शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय
7 8 9 10
साहित्यिक समाचार -
     
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
हिन्दी राइटर्स गिल्ड
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्य सेतु
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada